Sunday, February 8, 2009

सेलफोन पर अख़बार और खबरों के वीडियो

पत्रकारिता की नयी आंधी

क्या आप यकीन करेंगे कि हिंदुस्तान में भी बिना कुछ खर्च किये ही देश दुनिया, राजनीति , खेल, सिनेमा, अपराध, मौसम और बाज़ार से जुड़ी ताज़ा खबरें एसएम्एस के ज़रिये हर दिन अपने सेलफोन पर हासिल कर सकते हैं? यह काम कर दिखाया है उत्तराखंड में रहनेवाले एक युवक उमेश कुमार ने। उनकी कम्पनी न्यूज़ नेटवर्क ऑफ़ इंडिया इस वक्त चर्चा में है। यदि आप चाहते हैं कि ये सुविधा आप ले आप तो बस यहाँ क्लिक करें। आप एकसाथ कितने ही सेलफोन्स पर ये सुविधा ले सकते है, बिना इनकमिन्ग खर्च, एक्दम मुफ्त और बिना झंझट अगर आपका सेलफोन हिन्दी अक्षर नहीं दिखाता है तो भी आपको बिना रोकटोक हिन्दी में खबरें मिलती रहेंगी । कोई रुकावट या नखरा नहीं, कोई विज्ञापन नहीं, सिर्फ़ और सिर्फ़ मुफ्त खबरें


नेपथ्य
सन १९९२ से २००७ के बीच मैने प्रदेश के कई बड़े राजनेताओं का मीडिया और जनसंपर्क प्रबंधन कार्य देखा सर्वश्री कल्याण सिंह, राम प्रकाश गुप्त, राज नाथ सिंह, बहिन कुमारी मायावती और नेताजी मुलायम सिंह यादव सभी माननीय मुख्यमन्त्रियो के सरकारी जनसंपर्क और मीडिया प्रबंधन कार्य के दौरान ही २००१ में मेरी मुलाकात देहरादून (वर्तमान उत्तराखंड में) सक्रिय एक अत्यन्त युवा पत्रकार उमेश कुमार् से हो गयी उमेश जी का तकिया कलाम था, ‘मीडिया में कुछ भी नामुमकिन नहीं


‘सोच से ही सब मुमकिन है‘
उमेश सपनों की बातें करते थे जैसे कि वह एक ऐसी समाचार एजेन्सी बनाना चाहते हैं, लोगों को मोबाइल फ़ोन पर ही उनकी पसंद के विषयों पर मुफ्त समाचार दे सके एक ऐसी इलेक्ट्रॉनिक न्यूज़ एजेन्सी बनाना चाहते थे जो आम आदमी के समर्थन से और बिना बड़े पूंजी निवेश से चलायी जाये ऐसा अख़बार जिसे अपनी मर्जी से छापा या पढ़ा जा सके ऐसी मीडिया एजेन्सी जिस पर किसी पॉलिटिकल पार्टी का ठप्पा हो ऐसी बहुत सी बातें जिन्हें मैने भी उस वक्त तो व्यवहारिक नहीं समझा था


मुफ्त में खबरें…????
उनके
पास कोई फंड नहीं थे, जाहिर है बिना पैसे के वो क्या कर सकते थे जब किसी असंभव से सवाल पर अटक जाते तो सादगी से सफाई देते, ‘ भाई साहेब, सोच से ही सब मुमकिन है देखिये पूरी दुनिया में इन्टरनेट छा रहा है, इन्टरनेट पर सब मुफ्त है उधर सेलफोन की दुनिया फैलती जा रही है। एक कांसेप्ट आ रहा है कि सॉफ्टवेयर भी मुफ्त हो जाएँ। हम सोचते हैं कि खबरों की दुनिया में भी यह मुमकिन है।‘ उमेश कहते थे ‘..जाहिर सी बात है कि राजनीति, प्रशासन, अपराध, खेल, व्यापार और मौसम जैसी बुनियादी जानकारी अगर सीधे ही आपके सेलफोन पर जाये और आपको बिना इन्टरनेट पर जाये ही मुफ्त में सारी दुनिया की महत्वपूर्ण गतिविधियाँ पता चलें तो क्या कहना..’उन्हे लगता था कि हर कोई उनके इस प्रस्ताव पर लट्टू हो जाएगा..
मैने सोचा ही नहीं था कि वो सोच को सच कर दिखा सकते हैं वाकई ऐसा कुछ कर सकते हैं, जो मीडिया में क्रांतिकारी बदलाव बन जाये उस वक्त हमारी मुलाकात सोचेंगे, देखेंगे, कुछ करेंगे और बताएंगे जैसे औपचारिक तथा स्वाभाविक वायदों के साथ ख़तम हो गईं


एसएमएस पत्रकारिता की क्रांति
२००६ के बाद कई मौकों पर उमेश जी से फ़ोन पर बात हुई तो पता चला कि उन्होने देहरादून में अपनी अच्छी खासी न्यूज़ एजेन्सी बना ली है मैने उनकी मांग पर उन्हें मा0 मुख्यमंत्री कार्यालय से सम्बद्ध समाचार और फोटो ईमेल से भिजवाने शुरू कर दिए
२००७
के आरम्भ में ही मुझे बताया गया कि एनएनआई देहरादून का प्रांतीय कार्यालय लखनऊ में खुल रहा है और अन्य प्रान्तों में भी जल्दी खुलेगा इसके बाद मेरा बरेली तबादला हो गया और मेरे दिमाग से ये बात उतर गयी बरेली आते ही पत्रकार लिटिल गुप्ता से पता चला कि एनएनआई अब एसएम्एस से समाचार भेजने का सिलसिला शुरू करने जा रही है
इसके बाद् अचानक
ही बरेली मंडल के चारों जिलों के हर प्रमुख नेता और अधिकारी के सेल फ़ोन पर देश दुनिया के समाचार एसएमएस के रूप में आने शुरू हो गये इस सेवा की वजह से कई मौकों पर प्रशासन को बहुत मदद मिली अगले दिन का अखबार पढ़ने से पहले या रेडियो अथवा टेलीविजन चालू किये बिना ही नेताओं और अफसरों को वक्त की नब्ज़ पता चलने लगी जब बदाऊं जिले में एक हिंसक वारदात हुई तो आनन फानन मे सरकारी अफसरों ने सुरक्षात्मक प्रबंध करने मे कामयाबी पा ली। श्रेय जाता है एनएनआई के उस एसएम्एस को जो सभी राजनेताओं और अफसरों के सेलफोन पर घटना होते ही एक ब्रेकिंग न्यूज़ के रूप में गया था


कहानी अभी बाकी है मेरे दोस्त..
एनएनआई के पोर्टल यानी वेबसाईट को देखने से पता चलता है कि वह समाचार और मनोरंजन की हर विधा में पाँव जमाने की कोशिश कर रही है। सबसे बड़ी बात यह है कि सबको ख़बर देने के बावजूद यह कम्पनी वाकई आम उपभोग्ता से सीधे खबरें और विडियो भी लेने में कामयाब हो रही है। अगर आपके पास कोई ख़बर या जानकारी है तो आप भी एनएनआई को इस जगह क्लिक करके अपनी समस्या या ख़बर लिखित या रेकॉर्डेड रूप में अभी के अभी भेज सकते हैं।
इन्टरनेट के ज़रिये इस साईट पर आप राष्ट्रीय, प्रांतीय, क्षेत्रीय, राजनीतिक, अपराध, खेल और विविध मामलों पर ताजे लेख पढ़ सकते हैं। उन्हें कॉपी कर सकते हैं। संसार के अन्य समाचार पत्रों को भी देख पढ़ सकते हैं। ताज़ा खबरों का स्क्रोल और खेल स्कोर्स भी उपलब्ध हैं यहाँ। वाकई एनएनआई ने काफी काम किया है।


बहुत काम बाकी भी है
पर एसएम्एस खबरों के मामले में अपने प्रतिद्वंदियों से काफी आगे होने के बावजूद अभी एनएनआई को काफी मेहनत करनी है। अभी एनएनआई को उत्तर प्रदेश, उत्तराँचल, दिल्ली, बिहार और आसपास से आगे की सोच विकसित करनी होगी


अधूरी वेबसाईट

इस कम्पनी की वेबसाइट के कई बटन काम ही नहीं करते। कोन्टक्ट, साईट मैप और वेबसाइट संचालकों से संपर्क का प्रावधान ही नहीं हो पाया है। एनएनआई की वेबसाईट पर आप पायेंगे कि अभी २४ घंटे की सुर्खियाँ यानी बड़ी खबरें दिखाने की व्यवस्था नहीं हो पायी है। सेलफोन पर इस साईट के ज़रिये इलेक्ट्रॉनिक न्यूज़ यानी रेडियो सुनना और टेलीविजन समाचार देखना अभी मुमकिन नहीं है। फोटोगेलेरी में फोटो नहीं दिख रहे हैं। हाँ यह बात और है कि अन्तरराष्ट्रीय स्तर के अखबारों, इन्टरनेट टीवी चैनेलों औररेडियो तक इसी साईट पर मौजूद एक बटन के माध्यम से पहुँचा जा सकता है।

भविष्य की सोच

कुछ दिन पहले मेरी बात एनएनआई के लखनऊ ब्यूरो प्रभारी आसिफ अंसारी से हुई। उन्होने बडे उत्साह से अपनी संस्था के आगामी लक्ष्यों की जानकारी देने के साथ ही कहा कि एनएनआई जल्दी ही एम्एम्एस के जरिये विडियो समाचार भी भेजना शुरू करने जा रही है।

अंसारी कहते हैं कि अगर पूरे देश से कोई भी हमें ख़बर भेजना चाहता है तो सीधे भेज सकता है। टेलीफोन नंबर्स ०५२२२९९२१७७ फैक्स ०५२२ २९९२१८८ और ख़ुद उनका मोबाइल ०९४५००००००२ हमेशा हर इंसान के लिये उपलब्ध है।

सवाल : यह है कि एनएनआई क्या अपनी वर्तमान दशा से आगे जा सकेगी?
जवाब
: काम बड़ा है पर जिस एक शख्स ने अकले बूते यहाँ तक सफर तय कर लिया उसे कौन रोकेगा?

8 comments:

  1. visit www.allaboututtarpradesh.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. BAHUT ACCHA PRAYAAS HAI.HAMKO YAKEEN HAI EK DIN NNI SANSAAR KI SABSE BADI NEWS AGENCY BANEGE. LITTLE GUPTA
    REPORTER

    ReplyDelete
  3. thanx for very useful information
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    मेरे द्वारा संपादित पत्रिका देखें
    www.zindagilive08.blogspot.com
    आर्ट के लि‌ए देखें
    www.chitrasansar.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर…आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही उपयोगी जानकारी. ANI को शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  6. अच्छी जानकारी दी है।आभार।

    ReplyDelete
  7. आपका आभार। स्वागत है ।

    ReplyDelete